Breaking News in Hindi
Header Banner
ब्रेकिंग
क्या CrPC की धारा 156(3) के तहत लोक सेवक के खिलाफ जांच का आदेश देने के लिए मंजूरी की आवश्यकता है ? स... दहेज में चार पहिया वाहन नहीं मिलने पर ससुरालयों ने विवाहिता को घर से निकाला ! जन आशीर्वाद यात्रा भाजपा कार्यालय पहुंची ! सभी लोग संगठित होकर कार्य करें - अजय पाण्डेय एनटीपीसी सिंगरौली ने मनाया राष्ट्रिय अग्निशमन सेवा दिवस !  बाबा साहब भीमराव अम्बेडकर की 133 वीं जयंती वर्ष बड़ी धूमधाम से मनाई गयी ! कलाकार वैलफेयर ट्रस्ट की बैठक आयोजित ! बिजली के तार की चपेट में आने से पिकअप जली ! उत्तर भारतीय विकास मंच द्वारा होली मिलन एवं कार्यकर्ता सम्मान समारोह का आयोजन ! रेलवे स्टेशन के बाहर बदमाशों ने दो युवकों को मारी गोली !

“शादी के बाद भी बेटी, बेटी ही रहती है” – कर्नाटक हाई कोर्ट

0 130

कर्नाटक : लीगल अपडेट (स्पेशल डेस्क)
06 जनवरी 2023 : अदालत ने कहा कि आश्रित कार्ड का लाभ बेटा शादी के पहले भी उठाता है और बाद में भी तो भी वो बेटा ही रहता है । वहीं अगर एक बेटी इस कार्ड को विवाह से पहले इस्तेमाल करती है तो ठीक लेकिन शादी के बाद इसके इस्तेमाल पर रोक क्यों ?
जिस तरह से बेटा शादी के बाद भी बेटा रहता है वैसे ही विवाहित बेटियां शादी के बाद भी बेटी ही रहती है – एक मामले में कर्नाटक हाईकोर्ट ने सैनिक कल्याण बोर्ड के दिशा निर्देशों को खारिज़ करते हुए रिटायर्ड रक्षा कर्मियों की शादीशुदा बेटियों के मामले में यह बात कहते हुए बड़ा फैसला सुनाया ।

यह पूरा मामला विवाहित बेटियों को पूर्व रक्षा कर्मियों के बच्चों के लिए आश्रित कार्ड का लाभ उठाने से रोके जाने को लेकर था । हाई कोर्ट ने कहा कि जैसे बेटा विवाहित होने के बाद भी घर का सदस्य रहता है वैसे ही बेटियां भी पिता के लिए विवाह के बाद भी उतना ही अधिकार रखती हैं ।

हाई कोर्ट का फैसला जानें !

कर्नाटक हाई कोर्ट की सिंगल जज बेंच ने 2 जनवरी 2023 को मामले को लेकर फैसला सुनाया था । अदालत ने अपने एक आदेश में यह फैसला सुनाया, “इस कार्ड का लाभ बेटा शादी के पहले भी उठाता है और बाद में भी तो भी वो बेटा ही रहता है । वहीं अगर एक बेटी इस कार्ड को विवाह से पहले इस्तेमाल करती है तो ठीक लेकिन शादी के बाद इसके इस्तेमाल पर रोक क्यों ? जब विवाह के बाद बेटे की स्थिति में परिवर्तन नहीं है तो फिर बेटी की स्थिति में कैसे परिवर्तन हो सकता है । बेटी का विवाह उसकी स्थिति को बदल नहीं सकता है और न ही बदलेगा ।”

इसके साथ ही हाई कोर्ट ने केंद्र सरकार से यह भी कहा कि वो बदलते लिंग अनुपातों के समीकरणों के चलते पूर्व रक्षा कर्मियों को पूर्व सैनिकों के रूप में बताना बंद करे । एक रिपोर्ट के अनुसार, कर्नाटक हाईकोर्ट के जस्टिस एम नागप्रसन्ना ने यह आदेश सेना के एक पूर्व सैनिक सूबेदार रमेश खंडप्पा पुलिस पाटिल की 31 वर्षीय बेटी की दायर की गई याचिका पर सुनवाई के दौरान ज़ारी किया । रमेश खंडप्पा पुलिस पाटिल साल 2001 में ‘ऑपरेशन पराक्रम’ के दौरान खदानों की सफाई करते हुए शहीद हो गए थे ।

पिता की नौकरी पर विवाहित महिलाओं का भी है अधिकार – कोर्ट

कर्नाटक हाई कोर्ट ने दिसंबर 2020 के एक मामले में विवाहित बेटियों को लेकर ये फैसला दिया था कि पिता की नौकरी में उनका भी अधिकार है यानि अब पिता की नौकरी से होने वाली आय में शादीशुदा बेटियां भी दावा कर सकती हैं । बेंगलूरु की रहने वाली भुवनेश्वरी वी. पुराणिक नाम की महिला ने कर्नाटक हाईकोर्ट में एक याचिका दायर की थी । कोर्ट ने इसी याचिका पर सुनवाई के बाद अपना फैसला सुनाया था । कर्नाटक हाई कोर्ट के इस फैसले के मुताबिक शादीशुदा महिलाएं भी पिता की नौकरी पर अपना दावा कर सकती हैं ।

देखा जाए तो अमूमन महिलाओं को शादी के बाद से पिता से मिलने वाले उसे सारे अधिकारों से दूर कर दिया जाता है । उससे कहा जाता है कि उसका ससुराल ही उसका घर है व मायका उसका घर नहीं है । अब वह उनकी बेटी से ज़्यादा किसी के घर की बहु है । किसी और के घर की बहु होने का हवाला देते हुए बेटियों से उनके अधिकारों को छीन लिया जाता है व अधिकतर मामलों में घर के बेटों को ही पिता से मिलने वाले अधिकारों का लाभ मिलता है या दिया जाता है ।

मामले में हाई कोर्ट ने केंद्र सरकार को समाज में बदलाव के अनुरूप कदम उठाने और अपने विभिन्न कार्यक्रमों और पहलों के लिए लिंग-तटस्थ नामों का उपयोग करने का भी निर्देश दिया ।

आगे केंद्र सरकार से यह भी कहा कि वह बलों में बदलते लिंग समीकरणों के कारण पूर्व रक्षा कर्मियों को पूर्व सैनिकों के रूप में संदर्भित करना बंद करे और पूर्व-सैनिकों के लिंग-तटस्थ नामकरण पर विचार करे ।

Leave A Reply

Your email address will not be published.

आदिपुरुष फिल्म पर प्रतिबंध लगाया जाए – भुवनेश आधुनिक     |     रेलवे आरक्षण सुविधा बाधित होने से यात्रियों को उठानी पड़ेगी परेशानी !     |     फर्जी SDM बनकर मिलता था अधिकारियों से ! हुआ गिरफ्तार !     |     चाइनीज मांझा बना जी का जंजाल, गर्दन कटने से युवक की हालत नाजुक !     |     मोमबत्ती से घर में लगी आग, मासूम बच्ची की हुई जलकर मौत !     |     अलीगढ़ विकास प्राधिकरण के बुल्डोजर ने 15 बीघा जमींन को खाली कराया !     |     दिल्ली में बिपरजॉय का असर, आज फिर बादल बरसने से गिरेगा तापमान ! यूपी को भी राहत !     |     अखिलेश यादव ने उठाए प्रदेश कानून व्यवस्था पर सवाल !     |     बिपरजॉय करेगा चारधाम यात्रा को प्रभावित, यात्रियों को उठानी पड़ सकती है परेशानी !     |     9 वर्ष पूर्ण होने पर आयोजित विशाल जनसभा कार्यक्रम स्थल का निरीक्षण किया !     |     क्या CrPC की धारा 156(3) के तहत लोक सेवक के खिलाफ जांच का आदेश देने के लिए मंजूरी की आवश्यकता है ? सुप्रीम कोर्ट ने लंबित मामले में शीघ्र निर्णय करने को कहा !     |     दहेज में चार पहिया वाहन नहीं मिलने पर ससुरालयों ने विवाहिता को घर से निकाला !     |     जन आशीर्वाद यात्रा भाजपा कार्यालय पहुंची !     |     सभी लोग संगठित होकर कार्य करें – अजय पाण्डेय     |     एनटीपीसी सिंगरौली ने मनाया राष्ट्रिय अग्निशमन सेवा दिवस !      |     बाबा साहब भीमराव अम्बेडकर की 133 वीं जयंती वर्ष बड़ी धूमधाम से मनाई गयी !     |     कलाकार वैलफेयर ट्रस्ट की बैठक आयोजित !     |     बिजली के तार की चपेट में आने से पिकअप जली !     |     उत्तर भारतीय विकास मंच द्वारा होली मिलन एवं कार्यकर्ता सम्मान समारोह का आयोजन !     |     रेलवे स्टेशन के बाहर बदमाशों ने दो युवकों को मारी गोली !     |    

पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- 9410378878