Breaking News in Hindi
Header Banner

“विश्व गौरेया दिवस” गौरेया कहां कितनी, किस हाल में, स्थिति को लेकर अध्ययन शुरू

0 235

“विश्व गौरेया दिवस” गौरेया कहां कितनी, किस हाल में, स्थिति को लेकर अध्ययन शुरू

उत्तराखण्ड : देहरादून
20 मार्च 2022 : भारतीय वन्यजीव संस्थान (WII) व बॉम्बे नेचुरल हिस्ट्री सोसायटी (BNHS) ने राज्य में गौरैया की स्थिति को लेकर अध्ययन शुरू कर दिया है । इससे गौरेया चिड़िया की संख्या आँकड़े सामने आएगा ।

वन विभाग से वित्त पोषित तीन साल के इस प्रोजेक्ट के अंतर्गत प्रदेशभर में गहन सर्वे कराया जा रहा है। इससे यह पता चल सकेगा कि कहां इसकी संख्या कम है और कहां ज्यादा ।
साथ ही कारणों की पड़ताल में यह भी देखा जाएगा कि खेती में रासायनिक उर्वरकों व कीटनाशकों के उपयोग के कारण गौरैया पर कोई असर तो नहीं पड़ा है ।

उत्तराखण्ड की पक्षी विविधता बेजोड़ है । देशभर में मिलने वाली पक्षियों की 1300 प्रजातियों में से आधे से अधिक यहां चिह्नित हैं । इसके बावजूद राज्य में गौरैया की संख्या में कमी देखी गई है ।
यधपि इसे लेकर कोई बेसलाइन डाटा नहीं है, लेकिन पिछले वर्षों की संख्या के आधार पर ये अनुमान लगाया जा रहा है ।

इस सबको देखते हुए वन विभाग ने प्रदेश में गौरैया की स्थिति को लेकर सर्वे कराने का निर्णय लिया ।
पिछले वर्ष इस संबंध में वन विभाग, WII व BNHS के मध्य समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर हुए ।
प्रोजेक्ट से जुड़े WII के वैज्ञानिक डॉ. सुरेश कुमार के अनुसार राजाजी टाइगर रिजर्व से लगे क्षेत्रों के अलावा रुद्रप्रयाग, बदरीनाथ के आसपास सर्वे शुरू कर दिया गया है । इसी तरह यह पूरे राज्य में होगा । इससे गौरैया की संख्या को लेकर वास्तविक तस्वीर सामने आएगी ।
इसके साथ ही गौरैया को लेकर पारिस्थितिकीय अध्ययन भी किया जा रहा है, जिसमें देखा जाएगा कि उच्च शिखरीय व निचले क्षेत्रों में ये कब-कब और कितनी बार घोंसले बनाते हैं ।
साथ ही गौरैया के जैनेक्टिस पर भी अध्ययन होगा । कृषि क्षेत्र में रासायनिक उर्वरकों व कीटनाशकों के प्रयोग से गौरैया पर कोई असर पड़ा है या नहीं, इसके सैंपल भी लिए जाएंगे ।

डॉ. धनंजय मोहन (निदेशक, भारतीय वन्यजीव संस्थान) ने कहा कि गौरैया के संबंध में प्रदेशभर में विस्तृत अध्ययन किया जा रहा है । हर जिले के लिए सर्वे प्लान बनाया गया है ।
अध्ययन रिपोर्ट से गौरैया के संरक्षण को लेकर महत्वपूर्ण दिशा मिलेगी । सर्वे के दौरान जनसामान्य को इस पक्षी के संरक्षण के मद्देनजर जागरूक किया जाएगा ।गौरैया को लेकर शहरी क्षेत्रों में चिंता बढ़ रही है तो वही गांवों में इसकी अच्छी – खासी संख्या सुकून देती है ।
गौरैया को लेकर लंबे समय से अध्ययन कर रहे देहरादून निवासी एसोसिएट प्रोफेसर कमलकांत जोशी के अध्ययन में यह बात सामने आई है, कि देहरादून, हरिद्धार, रुड़की समेत अन्य शहरों में यह पक्षी काफी कम दिखाई पड़ रहा है ।

शहरी क्षेत्रों में लगातार सीमेंट – कंक्रीट, घोंसले बनाने के लिए स्थान की कमी और भोजन की अनुपलब्धता इसकी मुख्य वजह है ।
इसके उलट ग्रामीण क्षेत्रों में गौरैया के लिए बेहतर वास स्थल है तो भोजन की कमी नहीं है ।
जोशी का कहना है कि गौरैया पारिस्थितिकी का महत्वपूर्ण हिस्सा है । इसके संरक्षण के लिए प्रत्येक व्यक्ति को आगे आना होगा ।

 

Leave A Reply

Your email address will not be published.

आदिपुरुष फिल्म पर प्रतिबंध लगाया जाए – भुवनेश आधुनिक     |     रेलवे आरक्षण सुविधा बाधित होने से यात्रियों को उठानी पड़ेगी परेशानी !     |     फर्जी SDM बनकर मिलता था अधिकारियों से ! हुआ गिरफ्तार !     |     चाइनीज मांझा बना जी का जंजाल, गर्दन कटने से युवक की हालत नाजुक !     |     मोमबत्ती से घर में लगी आग, मासूम बच्ची की हुई जलकर मौत !     |     अलीगढ़ विकास प्राधिकरण के बुल्डोजर ने 15 बीघा जमींन को खाली कराया !     |     दिल्ली में बिपरजॉय का असर, आज फिर बादल बरसने से गिरेगा तापमान ! यूपी को भी राहत !     |     अखिलेश यादव ने उठाए प्रदेश कानून व्यवस्था पर सवाल !     |     बिपरजॉय करेगा चारधाम यात्रा को प्रभावित, यात्रियों को उठानी पड़ सकती है परेशानी !     |     9 वर्ष पूर्ण होने पर आयोजित विशाल जनसभा कार्यक्रम स्थल का निरीक्षण किया !     |     हथियार बंद दबंगों ने युवक पर किया हमला ! हुई मौत घटनास्थल पर पहुंचे CO !     |     लखनऊ से ही लोकसभा चुनाव लड़ेंगे रक्षा मंत्री !     |     न्यू लाइफ पब्लिक स्कूल को प्राथमिक (1 से 5 तक) अंग्रेजी माध्यम में मिली स्थायी मान्यता !     |     हवाला कारोबारी से लाखों की लूट में शामिल तीसरा आरोपी हुआ गिरफ्तार !     |     CM सलाहकार को सेवा विस्तार मिला !      |     जन्मजात मूकबधिर बच्चो का हुआ परीक्षण व पंजीकरण !      |     दो करोड़ 10 लाख के गांजे की खेप ANTF ने की बरामद !     |     उठावनी सूचना !     |     सोने का मृग नहीं चुनो तुम; इसमें निश्चय छल होगा…     |     SP अतुल कुमार शर्मा का हुआ ट्रांसफर !     |    

पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- 9410378878